देश के इस शहर में अब तक 10 मुसलमान गवां चुके हैं जान, मुस्लिम गाय पालना ही छोड़ेंगे, जल्द होगा फ़ैसला!




मुस्लिम गाय पालना ही छोड़ेंगे

गुरुग्राम।राजस्थान के बहरोड़ में मेवात के गांव जयसिंहपुर निवासी पहलू की हत्या के बाद मेवात का मुस्लिम समाज अपने आप को असुरक्षित महसूस करने लगा है। मुस्लिम गोपालक को गोहत्यारा समझा जा रहा है।

गाय का कारोबार अब तक मेवात के करीब दस मुस्लिम लोगों की जान ले चुका है। मुस्लिम गाय पालना छोड़ सकता है इसका फैसला जल्द ही पलवल जिले के हथीन में होने वाली महापंचायत में हो सकता है।

इस महापंचायत में हिंदू और मुस्लिम गोत्र-पाल के प्रमुख लोगों को न्योता दिया जाएगा। महापंचायत बुलाने की बात हथीन से पूर्व विधायक मास्टर अजमत खां ने कही है।

विधायक ने अपना दर्द सोमवार को गांव जयसिंहपुर में कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अशोक तंवर की उपस्थिति में सैकड़ों लोगों के सामने व्यक्त किया। मेवात के 75 फीसदी मुस्लिम घरों में गाय पाई जाती है।

मेवात में करीब 300 परिवार ऐसे हैं जिनके पास 20 से 200 तक गायें आज भी मौजूद हैं। दो साल पहले मेवात के एक दर्जन से अधिक मुस्लिम गोपालकों को फिरोजपुर झिरका में सम्मानित भी कर चुके हैं।

मेवात में गाय एक आस्था का केंद्र हैं। इन सब के बावजूद भी मेवात के लोगों पर गोहत्या का कलंक लगा हुआ है। मेवात के गांव हवननगर स्थित जीवरक्षा गोशाला को एक शिक्षित मुस्लिम युवक पिछले दो साल से चला रहा है।

300 परिवार अभी भी करते हैं गाय पालन


No comments

Need a News Portal, with all feature... Whatsapp me @ +91-9990089080
Powered by Blogger.