180 देशों की रैंकिंग में भारतीय मीडिया 136वें नंबर पर : जानिये पाकिस्तान सहित दुसरे पडोसी देश को कौन सा स्थान मिला है





दुनिया भर में मीडिया पर नजर रखने वाली एक एजेंसी “world press freedom index”द्वारा जारी रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में पत्रकारों की आजादी ‘हिंदू राष्ट्रवादियों’ द्वारा दी जाने वाली धमकियों की वजह से घटी है।स्वतंत्र पत्रकारिता में गिरी भारत की रैकिंग, हिंदू राष्ट्रवादियों’ द्वारा दी जाने वाली धमकियां है मुख्य वजहें
दुनिया भर में मीडिया पर नजर रखने वाली एक एजेंसी द्वारा जारी रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में पत्रकारों की आजादी ‘हिंदू राष्ट्रवादियों’ द्वारा दी जाने वाली धमकियों की वजह से घटी है। रिपोर्ट के अनुसार, स्वतंत्र पत्रकारिता वाले इंडेक्स में भारत को 180 देशों में 136वां स्थान मिला है। मतलब दुनिया के 135 देशों में पत्रकारों को भारत से अधिक आजादी हासिल है। प्रतिष्ठित एजेंसी ‘रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर्स’ की वार्षिक रिपोर्ट में भारत ‘वर्ल्ड प्रेस फ्रीडम इंडेक्स’ में 136वें स्थान पर है, जबकि पिछले वर्ष भारत की रैंकिंग 133 थी। रिपोर्ट में हालांकि पूरी दुनिया में मीडिया के लिए चिंताजनक हालात की बात कही गई है। रिपोर्ट में कहा गया है, “हिंदू राष्ट्रवादियों द्वारा हर तरह की ‘राष्ट्र-विरोधी’ अभिव्यक्तियों को राष्ट्रीय बहस से बाहर करने की कोशिशों के चलते, भारत की मुख्यधारा की मीडिया में स्व नियंत्रण (सेल्फ सेंसरशिप) का रुझान बढ़ा है। रिपोर्ट में भारत पर केंद्रित अध्याय को ‘(प्रधानमंत्री) मोदी के राष्ट्रवाद से खतरे’ शीर्षक दिया गया है।
रिपोर्ट में अमेरिका सहित लोकतांत्रिक व्यवस्था वाले देशों में पत्रकारिता की स्वतंत्रता के घटने को लेकर आगाह किया गया है। अमेरिका को इस सूची में 43वां भुटान 84वां नेपाल 100वां दुबई 119वां अफग़ानिस्तान 120वां पाकिस्तान  139वां श्रलंका 141वां बंगलादेश 146वां रुस 148वां चीन 176वां कनाडा को 22वां और न्यूजीलैंड को 13वां स्थान दिया गया है, वहीं नॉर्वे को सर्वाधिक स्वतंत्र मीडिया वाला देश बताया गया है। सूची में स्वीडन दूसरे और फिनलैंड तीसरे स्थान पर है। रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर्स के महासचिव क्रिस्टोफ डेलोएरे ने बुधवार को पेरिस में कहा, “लोकतांत्रिक देश जिस गति से नीचे की ओर जा रहे हैं, वह उन लोगों के लिए खतरे का संकेत है जो यह समझते हैं कि अगर मीडिया की स्वतंत्रता सुरक्षित नहीं रही तो अन्य तरह की आजादियां भी सुरक्षित नहीं रहेंगी।”
ये हैं वो दस देश जिनहें टॉप टेन में जगह मिली है 
1    Norway      
2    Sweden
3    Finland
4    Denmark
5    Netherlands
6    Costa Rica
7    Switzerland
8    Jamaica
9    Belgium
10   Iceland



No comments

Need a News Portal, with all feature... Whatsapp me @ +91-9990089080
Powered by Blogger.