बारहवीं कक्षा तक कुरान की पढ़ाई ज़रूरी, जानिये किस देश में ये बिल पास हुआ और इसकी वजह क्या है




इस विधेयक के अनुसार,  कक्षा 1 से 5 तक के बच्चे पवित्र कुरान की अरबी भाषा को पढ़ना सीखेंगे. जबकि, कक्षा 6 से 12 तक के बच्चे अरबी भाषा के साथ उसका उर्दू अनुवाद भी पढ़ेंगे. हालांकि ये कानून सिर्फ मुस्लिम समुदाय के बच्चों पर लागू होगा.
पाकिस्तान की नेशनल असेंबली ने कुरान की शिक्षा से सबंधित एक विधेयक पेश किया हैं. जिसके तहत अब सरकारी स्कूलों में कक्षा 1 से 12 तक के बच्चों के  लिए कुरान की पढ़ाई अनिवार्य होगी.

 ख़बरों के अनुसार इस विधेयक को पाकिस्तान के संघीय शिक्षा और व्यवहारिक प्रशिक्षण मंत्री बलिगुर रहमान ने बुधवार को असेंबली में पेश किया. अब यह विधेयक हस्ताक्षर के लिए राष्ट्रपति ममनून हुसैन के पास भेजा जाएगा. विधेयक में यह भी कहा गया है कि कुरान की शिक्षा पर प्रांत अलग से कानून पारित कर सकते हैं.


इस कानून को लागू करने के पीछे मॉडर्न शिक्षा और धार्मिक शिक्षा दोनों को साथ देने की वजह बताई जा रही हैं. दरअसल मदरसों में केवल धार्मिक शिक्षा दी जाती हैं तो वहीँ स्कूलों में सिर्फ मोडर्न शिक्षा ही होती हैं.


No comments

Need a News Portal, with all feature... Whatsapp me @ +91-9990089080
Powered by Blogger.