इस्लाम से जुड़ी ये 10 रोचक बातें क्या आप जानते हैं? जानिये मुस्लिमों ने यहूदियों के लिए क्यों दिया था बलिदान




इस्लाम का मतलब है शांति और मानवता से प्यार करना लेकिन इन दिनों तो दुनिया में इस्लाम को लेकर बहुत सारी गलत धारणाएं हैं। इस्लाम एक ऐसा धर्म है, जिसे लोगों ने सही समझा नहीं है, क्यों कि उन्हें इसकी मूल बातें पता नहीं हैं। इस्लाम अन्य धर्मों का आदर करता है और अन्य धर्मों के लोगों से भाईचारा में रहना सिखाता है। इस्लाम मानता है कि धर्म को लेकर किसी पर कोई दबाव नहीं है। अगर एक व्यक्ति अच्छा इंसान नहीं है तो वह अच्छा मुसलमान भी नहीं बन सकता।
बहुत सारे देशों को दाढ़ी रखने वाले आदमी और बुर्का पहनने वाली महिलाओं से डर लगता है। लोगों से लगने वाले इस अंजान से डर को इस्लामोंफोबिया कहा जाता है।
चलिए आज आपको इस्लाम से जुड़ी कुछ रोचक बातें बताते हैं जो आपने पहले नहीं सुनी होगी:-
1. सारे अरबी मुस्लिम नहीं हैंः सारे अरबी लोग मुस्लिम नहीं हैं। उनमें ईसाई, बौद्ध, यहूदी, एथेस्ट भी हैं। इसके बावजूद इंडोनेशिया मं मुस्लिम आबादी ज्यादा है।
2. मुस्लिम लोग मोहम्मद और मक्का की पूजा नहीं करतेः इस्लाम के अंतिम धर्मगुरू मोहम्मद साहब हुए। उनके लिए सबके मन में आदर है लेकिन उनकी पूजा नहीं की जाती है क्योंकि अल्लाह के अलावा अगर कोई किसी औऱ की पूजा करता है तो उसे पाप समान ही  समझा जाता है, जिसे शिर्क कहा जाता है। मक्का और मोहम्मद दोनों को इस्लाम में बहुत माना जाता है लेकिन उनकी पूजा नहीं की जाती है।
3. अल्ला-हु-अकबर डर वाला शब्द नहीं हैः अल्ला-हु-अकबर का मतलब है ‘अल्लाह महान है’। मुस्लिम लोग अपने दुख-दर्द और चिंताएं मिटाने के लिए ऐसा कहते हैं जो व्यक्ति मुसलमान नहीं है वह इसका अर्थ लगा सकता है कि ‘ईश्वर महान है’।
4. इस्लाम में शराब और सिगरेट पर पाबंदीः शराब और सिगरेट एक धीमा जहर है और जो भी चीज आपको मार सकती है इस्लाम उसकी आज्ञा नहीं देता। इस्लाम में आत्महत्या वर्जित है। इसके साथ ही इन चीजों के सेवन के बाद व्यक्ति बुरे काम भी करता है।
5. गर्भपातः  इस्लाम में बच्चे के भ्रूण को मारने पर प्रतिबंध है। हां अगर मां की जान को खतरा है तो ऐसा किया जा सकता है।
6. दुनिया का दूसरा बड़ा धर्मः इस्लाम दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा और तेजी से बढ़ता हुआ धर्म है, 2050 तक यह ईसाई धर्म के बराबर हो जाएगा।
7. मैरीः मैरी या मरियम का नाम जितना बाईबल में लिया गया है, उससे कहीं ज्यादा कुरान में लिया गया है।
8. मुसलमानों ने यहूदियों को बचाया थाः द्वितीय विश्व युद्ध में बहुत से मुसलमानों ने नाजियों से यहूदियों को बचाने के लिए अपने जीवन का बलिदान दिया था।
9. मुसलमान हिंसा नहीं चाहतेः  हिंसा इस्लाम के खिलाफ है। इस्लाम का मतलब है शांति और लोगों को द्रढ़ता से इसका पालन करना चाहिए। इस्लाम मानवता पर आधारित है और मोहम्मद साहब ने तो उन लोगों को भी प्यार किया, जिन्होने उन पर कचरा फेंका था। जो व्यक्ति अपने आपको मुसलमान कहता है और हिंसा फैलाता है। इस्लाम ऐसे व्यक्ति को स्वीकार नहीं करता है।
10. यात्राः मुस्लिम महिलाएं अकेली यात्रा नहीं कर सकती हैं। यह केवल उनकी रक्षा के लिए है, उन्हें अपने पिता, भाई या पति के साथ ट्रैवल करना चाहिए। फिर भी कुछ महिलाएं इसका पालन नहीं करती हैं और अकेले ही यात्रा करती हैं। वहीं, कई मुस्लिम देशों में महिलाओं को अकेले यात्रा नहीं करने के चलते कानून बना हुआ है.

No comments

Need a News Portal, with all feature... Whatsapp me @ +91-9990089080
Powered by Blogger.