देश में नफरत फ़ैलाने वालों को कैफ ने दिखाया ऐसा आईना कि होश ठिकाने आ जायेंगे




आज के दौर में सोशल मीडिया एक ऐसा प्लेटफोर्म बन गया है जिसपर आपनी आवाज कई लोगों तक पहुँचाना काफी आसान होता है. बड़े-बड़े सितारे और मशहूर हस्तियाँ सोशल मीडिया के जरिये लोगों तक अपनी पहुँच बनाती हैं. आये दिन सोशल मीडिया पर कुछ ऐसे वीडियो भी वायरल हुए हैं जो समाज में नफरत फ़ैलाने का काम करते हैं. देश में मोदी सरकार है तो धर्म की राजनीति अपने चरम सीमा पर है और लोगों एक दूसरे के धर्म के खिलाफ तैयार किया जा रहा है और एक दूसरे को लड़ाने वाले बयान दिए जा रहे हैं. अभी बीजेपी के एक विधायक ने हज यात्रा पर रोक लगाने की धमकी तक दे डाली. वैसे आपको बता दें कि अमरनाथ यात्रा पर हमला एक आतंकी हमला था और उसको किसी धर्म से जोड़कर देखना बेईमानी होगी. क्योंकि लोगों को ये नही भूलना चाहिए कि जब बस पर हमला होने के बाद स्थानीय लोगों ने बस यात्रियों की जान बचायी थी.
अमरनाथ यात्रा पर हमले के बाद बीजेपी नेताओं में होड़ सी लग गयी कि कौन कितना भड़काऊ बयान देता है, सबने नफरत की राजनीति को बढ़ावा देने का काम किया और एक से एक भड़काऊ बयान दिए. यूपी से योगी सरकार के विधायक बृजभूषण राजपूत ने नफरत की आग को बढाते हुए यहाँ तक कहा डाला कि हज यात्रा नही होने देंगे.
इस बयान के बाद देश में सांप्रदायिक ताकतों के खिलाफ काफी गुस्सा है और उन्हें मुंहतोड़ जवाब देने के लिए बड़ी बड़ी हस्तियां भी अपने तरीके से सामने आयीं. भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व दिग्गज खिलाडी मोहम्मद कैफ ने सोशल मीडिया पर हज यात्रा पर रोक लगाने वालों को ऐसा धोया है कि उनकी बोलती बंद हो गयी.

मोहम्मद कैफ ने अपने ट्विटर अकाउंट पर नफरत फ़ैलाने वालों को करारा जवाब देते हुए एक फोटो शेयर की जिसमें लिखा हुआ था “लगा दो जाति का लेबल लहू की बोतल पर भी, फिर देखते हैं कौन लेने से मना करता है” आपको बता दें कि कैफ का ट्वीट ऐसे समय में आया है जब नफ़रत फ़ैलाने वालों की तादाद देश में बढ़ गयी है. इस सरकार में कोई भी छोटा-बड़ा नेता भड़काऊ बयान देकर फेमस हो जा रहा है और सरकार उसे रोक भी नही रही है.
मोहम्मद कैफ के इस ट्वीट पर लोगों ने उन्हें खूब सराहा और खूब रिप्लाई भी किये. काजिम खान ने कहा कि “इन्सान का मज़हब तो ये दो हथेलियाँ बताती है जुड़े तो पूजा, और खुले तो दुआ कहलाती है.”


1 comment:

Powered by Blogger.