कर्नाटक के कांग्रेस नेताओं की धमकी, अगर कोई मुसलमान AIMIM और SDPI के साथ गया तो होगा सामाजिक बहिष्कार




बेंगलुरु: कर्नाटक में कुछ मुस्लिम नेताओं और पूर्व अधिकारियों ने एक महत्वपूर्ण क़दम उठाया है| उन्होंने कहा अगर कोई भी मुस्लिम कांग्रेस के खिलाफ और एआईएमआईएम, एसडीपीआई जनता दल (यू) के साथ 2018 के चुनाव में वोट दिया तो हम उसका सामाजिक बहिष्कार करेंगे| डेक्कन क्रोनिकल के अनुसार यह बैठक मुस्लिम समुदाय और कुछ रिटायर्ड मुस्लिम अफसरों ने दो दिन पहले की थी| यह बैठक इसलिए की गयी थी जिससे आने वाले समय में मुस्लिम वोट को विभाजित नहीं किया जा सके| इस चर्चा में कहा गया कि किसी भी परिस्थिति में मुस्लिम वोट का विभाजन नहीं होना चाहिए| अगर हम अलग अलग हो गए तो इसका सीधा फायदा बीजेपी वाले को मिलेगा|
इस बैठक में बेंगलुरु के मुस्लिम समुदाय के नेताओं और शिवमोग्गा, कोलार, तुमकूरु और चित्रदुर्ग के भी लोग शामिल थे| नेताओं के एक छोटे से समूह ने इस बैठक में भाग लिया जिसमें एक कोर कमेटी का गठन किया गया था जिसमें समुदाय के वरिष्ठ नेताओं का गठन किया गया था जो कि भविष्य में कार्रवाई की योजना तैयार करेगा।
बैठक में राज्य भर से मौलाना को एक बैठक के लिए लाने का भी निर्णय लिया गया जहां वे कांग्रेस पार्टी को पीछे हटने का आश्वासन देंगे। अज्ञात स्रोतों का हवाला देते हुए रिपोर्ट में दावा किया गया कि इस अभियान के पीछे एक वरिष्ठ कांग्रेस नेता और समुदाय का एक बड़ा व्यापारी भी शामिल था।  अभी हाल ही में बैठक आयोजित करने के कारणों को समझाते हुए  सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (एसडीपीआई) ने हाल ही में एक बड़ी रैली का आयोजन किया था जिसमें एक लाख से ज्यादा लोगों ने भाग लिया था।एसडीपीआई उम्मीदवारों को 60 सीटों में उतारा जाएगा और हैदराबाद स्थित एमआईएम 40 विधानसभा क्षेत्रों में उम्मीदवार उतार सकता है। यह कांग्रेस के नेताओं के लिए चिंता का कारण बन गया है क्योंकि ये पार्टियां अल्पमत के वोट को विभाजित कर सकती हैं।
कर्नाटक में विधानसभा चुनाव अप्रैल और मई 2018 में होने की उम्मीद है। मुसलमान कर्नाटक की आबादी का लगभग 12.91% हिस्सा हैं। जबकि मुसलमानों को कर्नाटक के सभी जिलों में पाया जा सकता है, मुसलमानों में एक मजबूत उपस्थिति है|


No comments

Need a News Portal, with all feature... Whatsapp me @ +91-9990089080
Powered by Blogger.