रोहिंगिया मुसलमानों के कत्लेआम की जांच के लिए कूफ़ी अन्नान अपनी टीम के साथ म्यांमार पहुंचे



संयुक्त राष्ट्र संघ के पूर्व महासचिव कूफ़ी अन्नान म्यांमार की सेना के हाथों रोहिंगिया मुसलमानों के क़त्लेआम के बारे में जांच के लिए रखाइन प्रांत पहुँच गए हैं. खबर के मुताबिक अन्नान एक टीम के साथ एक एेसी स्थिति में रखाइन प्रांत पहुंचे है जब म्यांमार के सरकारी आंकड़ों के अनुसार हालिया वर्षों में सेना के हाथों सैकड़ों रोहिंगिया मुसलमान मारे जा चुके है.

कूफ़ी अन्नान के म्यांमार पहुंचने पर देश के कुछ सरकार विरोधियों ने सरकार के खिलाफ नारे लगाए और विदेश मंत्री तथा सरकार की वरिष्ठ सलाहकार आंग सांग सूकी के ख़िलाफ़ नारे लगाए. सूकी विदित रूप से प्रजातांत्रिक सिद्धांतों पर कटिबद्धता की बात करती हैं लेकिन उन्होंने रोहिंगिया मुसलमानों की स्थिति की अनदेखी करके देश में नस्ली भेदभाव को औपचारिकता दी है.
आंग सान सूकी ने अगस्त में अन्नान से अपील की थी कि वह एक टीम के साथ रोहिंगिया मुसलमानों के क़त्लेआम के कारणों की जांच करें. हालिया वर्षों में रोहिंगिया मुसलमानों के खिलाफ चरमपंथी बौद्धों की हिंसक कार्यवाहियों में सैकड़ों लोग मारे जा चुके हैं जबकि तीस हज़ार से ज्यादा रोहिंगिया मुसलमान बेघर हो गए हैं. और म्यांमार में नागरिक अधिकारों से वंचित हैं.


2 comments:

Powered by Blogger.