भोपाल: आलमी तब्लीगी इज्तिमा- दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा मुस्लिम सम्मेलन- होतें हैं 15 लाख लोग शामिल




भोपाल: देश में यह इज्तिमा सिर्फ भोपाल में ही होता है। इसके अलावा पाकिस्तान के रायविंड और बांग्लादेश के टोंगी में इस तरह का आयोजन किया जाता है। भोपाल का आयोजन दुनिया में सबसे बड़ा और सबसे पुराना है।
नवावो के दौर से सुरु हुआ भोपाल का आलमी तब्लीगी इज्तिमा की शुरुआत भोपाल से ही हुई थी ।4 लोगों से शुरू हुआ यह कारवां कई पढ़ाव पार करते हुए 14 लाख लोगों के मजमे तक आ गया है। पुराने भोपाल की घाटी भड़भूंजा स्थित चमेली वाली मस्जिद में मौलाना मिस्कीन साहब ने 4 लोगों की जमात के साथ इसकी शुरूआत की थी।
तादाद बढ़ी तो इज्तिमा मस्जिद शकूर खां में लगने लगा। इसका अगला मुकाम उस जमाने की जामा मस्जिद मांजी मामोला में रहा। कुछ अरसे बाद इसे जुमेराती चौक की जामा मस्जिद फिर ताजुल मसाजिद में लाया गया। मक्का में हज और बांग्लादेश के इज्तिमा के बाद दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी संख्या भोपाल के इज्तिमे में जुटती है।
इस बार यहां 14 से 16 लाख लोगों के पहुंचने का अनुमान है। इज्तिमा के जिम्मेदार अतीकुल इस्लाम बताते हैं यहां पर दीनी जज्बे को लेकर शुरू हुए जलसे का मकसद इसके आसपास लगने वाले कपड़े और खाने के मेलों में गुम होने लगा था.
इसके चलते इसकी जगह इस्लाम नगर के पास ईंटखेड़ी घासीपुरा में चुनी गई। यहां 16 साल से इसका आयोजन किया जा रहा है। इस बार यहां 85 एकड़ जमीन में पंडाल और 200 एकड़ क्षेत्र में पार्किंग और खाने के किफायती होटलों का इंतजाम किया गया है।
हाथों में तस्बीह (माला), बगल में दबा मुसल्ला (नमाज पढ़ने का आसन) और जुबान पर सिर्फ अल्लाह का नाम। शुक्रवार को दिन भर यह नजारा ईटखेड़ी स्थित इज्तिमागाह में दिखा। यहां सैक ड़ों की संख्या में पहुंच चुके करीब एक लाख लोगों को शहर मुफ्ती अब्दुल कलाम ने जुमा की नमाज पढ़ाई।देश के विभिन्ना क्षेत्रों के अलावा अलावा कनाडा, किरगिस्तान, सोमालिया, अमेरिका, इन्डोनेशिया,मलेशिया,कुवैत से भी जमातें आ चुकी हैं। शनिवार को सुबह फजिर की नमाज के साथ तीन दिनी आलमी तब्लीगी इज्तिमा का आगाज होगा।
इज्तिमा के लिए जमातों के आने का सिलसिला करीब दस दिन पहले से हो गया था। जमातों को शहर की विभिन्ना मस्जिदों ने ठहराया गया था। शुक्रवार सुबह से इन जमातों के इजित्मागाह पहुंचने का सिलसिला शुरू हुआ,जो देर रात तक जारी रहा। रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड के अलावा भोपाल टॉकीज चौराहा से जमातों को इज्तिमागाह तक पहुंचाने के वाहनों का निशुल्क इंतजाम किया गया है। जिला प्रशासन ने भी जमातों के लिए बसों की व्यवस्था की है। शनिवार सुबह मेवात से आए मौलवी शराफत साहब के बयान के साथ इज्तिमा की शुरूआत होगी।
इज्तिमा के 70 साल के इतिहास में पहली बार इज्तिमाई निकाह इज्तिमा के पहले दिन करवाए जा रहे हैं। अब तक यह व्यवस्था इज्तिमा के दूसरे दिन रविवार को हुआ करती थी। कमेटी के अतीक-उल-इस्लाम ने बताया कि शनिवार शाम को असिर की नमाज के बाद 500 से ज्यादा निकाह पढ़ाए जाएंगे। इन दूल्हों के निकाह का खुतबा दिल्ली मरकज के मौलाना साअद साहब पढ़ाएंगे।
शनिवार सुबह से शुरू होने वाले इज्तिमा में तीन दिन तक बयान-ओ-तकरीर का दौर चलेगा। इस दौरान दिल्ली मरकज के उलेमा तब्लीग की छह बातों पर बयान करेंगे।
तीन दिन के इज्तिमा का असर शहर के मुस्लिम बाहुल्य वाले इलाकों में दिखाई देने लगा है। यहां जमातों में जाने की तैयारी और एक-दूसरे को दावतें देने का सिलसिला चल पड़ा है। अधिकांश दुकानदारों ने अपना कारोबार बंद कर इज्तिमा में जाने की तैयारी कर ली है। वहीं सरकारी और निजी नौकरी से जुड़े लोगों ने दफ्तरों से शनिवार की छुट्टी लेकर इज्तिमा में जाने की तैयारी कर ली है। उधर सोमवार को दुआ के लिए सरकारी दफ्तरों में आधे दिन का अवकाश घोषित कर दिया है।


3 comments:

  1. Jis tarah sc pe jo bharosa tha Ladki ka Alhamdulillah Usi tarah sdaqhatse Haq ka hi physla Aya hy jo bhi Log qhudah pe aur Hamare Jamuri nizam yane sumvidhan jo hamara huq humko dilata hy usitarah subhi mutod jawab se sc ka fysla bhi anese masumon ko aur hamare desh k qhannon pe bharosa ettemat yaqheen pakka khanoonon pe badgaya hy Allahpak Aise hi Bachaye Rakhe Aameen.

    ReplyDelete
  2. Kerala ki Ladki ko shadise jo physla ya Talim mukammil karne jis lad k se shadi ki hy Usi Ladk k sath rahne ka Jo SC ka fysla Ayahy Alhamdulillah sare desh ko is pe Naaz hy Love Jihad k nare Marne Walon ko Muhpe Sirf Ek Thappad nahi to Aur Kya hy?

    ReplyDelete
  3. SC k fyslonse ye pataChalta hy Aur Unlogon ko Warning miltihy Aur Warning Samajhna bhi Chahiye k Fasadiyon k Darane se Desh k Ahem Fysle nahi badalte yane Abhi bhi Desh me Na insafi Qhilaf Sacchi ka Khanoon Abhi bhi Zinda hy Aur Hamesha Zinda Rahega: Ya Allahji Is Hamare Desh ko Desh k Qhanoon ko Qhanoon k Rakhwalonko Aise hi Insilub ki Hifazat Karna Aameen.

    ReplyDelete

Powered by Blogger.