BSF डायरेक्टर जनरल के. के. शर्मा बोले ‘रोहिंग्या मुसलमानों के आतंकी होने का कोई सबूत नहीं’




नई दिल्ली  म्यांमार में बोद्ध चरमपंथियों और म्यांमार की सेना के अत्याचार का शिकार हुए रोहिंग्या मुसलमान जान बचाकर विदेशो में जाकर शरणार्थी हो गये थे, रोहिंग्या मुसलमानों की एक थोड़ी सी संख्या भारत में भी है। भारत में रोहिंग्या मुसलमानों को वापस भेजने को लेकर राजनीति गरमाती रही है। हिन्दुवादी संगठन और भाजपा के कुछ नेताओं द्वारा रोहिंग्या मुसलमानों को आतंकवादी बताया जाता रहा है।
अब सीमा सुरक्षा बल के डायरेक्टर जनरल केके शर्मा ने कहा कि अभी तक सुरक्षा बलों को किसी भी रोहिंग्या मुसलमान के आतंकवादी संगठन से जुड़े होने का कोई सबूत नहीं मिला है. उन्होंने कहा कि अगर भारतीय खुफिया एजेंसियां रोहिंग्या मुसलमानों के संबंध में आतंकी होने की होने की कोई जानकारी देती हैं तो उसे गंभीरता से लिया जायेगा।
उन्होंने बताया कि इसी साल अक्टूबर के माह में बीएसएफ द्वारा 87 रोहिंग्या मुसलमानों को गिरफ्तार किया गया था, जिसमें से उनहोंने 76 लोगों को वापस भेज दिया था। गौरतलब है कि म्यांमार से जान बचाकर रोहिंग्या मुसलमान बंग्लादेश और भारत की तरफ आते हैं, इस दौरान वे समुन्द्र में कश्ती पलटने के कारण दुर्घटना का शिकार भी हो जाते हैं।
सीमा सुरक्षा बल के निदेशक केके शर्मा ने प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि उन्होंने कई रोहिंग्या मुसलमानों से पूछ ताछ की है लेकिन अभी तक किसी का भी संबंध किसी आंतकी संगठन से होने के प्रमाण नहीं मिले हैं। उन्होंने कहा कि, ‘हमारे आंकलन में रोहिंग्या समुदाय की किसी भी आतंकी संगठन से जुड़ा होने की की सूचना नहीं मिली है. उन्होंने बताया कि जो लोग गिरफ्तारी हुए हैं उनके पास से भी कोई हथियार या गोला बारूद भी नहीं मिला है.


No comments

Need a News Portal, with all feature... Whatsapp me @ +91-9990089080
Powered by Blogger.