आतंकियों की मदद करने के मामले में गिरफ्तार भाजपाई को कोर्ट ने सुनाई उम्रकैद की सज़ा




राष्‍ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की विशेष अदालत ने बीते रोज आतंकियों को आर्थिक मदद देने के मामले में दोषी पाए गए असम के बीजेपी नेता निरंजन होजाई और दो पूर्व उग्रवादी नेताओं को उम्रकैद की सजा सुनाई. साथ ही एनआईए की विशेष अदालत ने अन्य 11 दोषियों को 8 से 12 वर्ष के बीच कैद की सजा सुनाई है.
बता दें कि कोर्ट ने इन तीनों को 1000 करोड़ के वित्तीय घोटाले और आतंकी फंडिंग मामले का दोषी पाया है. कोर्ट ने इनपर जेल के अलावा आर्थिक जुर्माना भी लगाया है. एनआईए के वकील ने बताया कि अदालत ने तीनों पर 25-25 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है.
इससे पहले 22 मई को अदालत ने दो मामलों में 15 लोगों को दोषी ठहराया था. बता दें कि 2009 में इस मामले की जांच एनआईए को सौंपी गयी थी. राज्य बीजेपी के प्रवक्ता बिजन महाजन ने बताया कि असम की बीजेपी गोहाटी हाईकोर्ट जाने की तैयारी कर रही है. ताकि पार्टी नेता निरंजन होजाई को इससे आजादी मिल सके.
एनआईए के विशेष जज ने जिन्हें उम्रकैद की सजा सुनाई है उनमें आतंकवादी संगठन दीमा हलम दाओगाह के कमांडर इन चीफ जेवेल गारलोसा, उत्तरी काचर हिल्स स्वायत्तशासी परिषद के मुख्य कार्यकारी सदस्य रहे मोहेट होजाई और बीजेपी नेता निरंजन होजाई शामिल हैं.
इस मामले में मोहेत होजाई को 30 मई 2009 को गिरफ्तार किया गया था और वह फिलहाल जेल में बंद है. जबकि जेवेल गरलोसा और निरंजन होजाई गिरफ्तार होने के बाद जमानत पर थे. दोनों ही स्वायत्त परिषद दिमा हसाओ के चयनित सदस्य हैं. इसके अलावा निरंजन बीजेपी के निर्वाचित सदस्य भी हैं.


No comments

Need a News Portal, with all feature... Whatsapp me @ +91-9990089080
Powered by Blogger.