जब एक विकलाँग महिला अपनी फरयाद ले कर पहुंची असदउद्दीन ओवैसी के पास



हैदराबाद: संसद, विधायक, मेयर का एक विशेष कल्चर भारतीय सांस्कृति में पाया जाता है. दो चार गाड़ियों का काफिला बन्दूक धारियों के साथ चलता है. लेकिन भारत के एक शहर हैदराबाद में एक मुख्यालय दारुल सलाम के नाम से है जो हमेशा गरीबों की मदद के लिए चौबीसों घण्टे खुला रहता है. दारुल सलाम आल इंडिया मजलिस ऐ इत्तेहादुल मुस्लिमीन का मुख्यालय है.

क्या है दारुल सलाम?…..
जहां पर पार्टी के सात विधायक, एमएलसी और संसद रोज़ाना जनता की बात सुनने के लिए बैठते हैं. बैरिस्टर असदउद्दीन ओवैसी खुद रोज़ाना दारुल सलाम में वक़्त देते हैं और जन समस्याएं सुनकर उनका निदान करते हैं. आज सोशल मीडिया पर एक फोटू वायरल हो रही है जिसमें देश के वरिष्ठ संसद असदउद्दीन ओवैसी एक शारीरिक रूप से विकलाँग महिला की बात को सामने पड़ी मेज़ पर झुककर सुन रहे हैं.
विकलांग महिला की बात सुनने के लिये झुके औवेसी…..
मिली जानकारी के मुताबक भोगुदा की निवासी टी रजनी अपनी शिकायत को लेकर दारुल सलाम पहुँची और उन्होंने ओवैसी से राज्य सरकार की योजना के तहत एक स्वतंत्र घर सुरक्षित करने के लिए एमपी की मदद का अनुरोध किया और एक मुफ्त बस पास और अन्य सुविधाएं मांगी जिसे महिला ने कमजोर आवाज में कहा. ओवैसी ने शिकायत को सुनकर उसको पूरा कराने का आश्वासन दिया.


No comments

Need a News Portal, with all feature... Whatsapp me @ +91-9990089080
Powered by Blogger.