क्यों हर बार चुनाव से पहले गुजरात में आतंकी पकड़े जाते हैं ?




क्यों गुजरात में अक्सर चुनाव से पहले ही आतंकी पकड़ जाते हैं? चुनाव आयोग द्वारा गुजरात चुनाव के ऐलान के एक दिन बाद ही आतंक निरोधी दस्ते (एटीएस) ने आईएसआईएस के दो संदिग्धों को गिरफ्तार किया है।
सूरत से गिरफ्तार किए गए संदिग्धों की पहचान मोहम्मद कासिम स्टिंबरवाला और उबेद अहमद मिर्जा के रूप में की गई।
एटीएस ने दावा किया कि गिरफ्तार किए गए संदिग्ध अहमदाबाद के खादिया इलाके में स्थित यहूदी उपासनागृह में बहुत जल्द हमले की योजना बना रहे थे। ये देश की सुरक्षा से जुड़ा सवाल है इसमे कोई कोताही नहीं बरती जानी चाहिए।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक आतंकियों ने कबूल किया है कि पालघर में 12 किलो आरडीएक्स छुपाकर रखे गए थे। इससे वे गुजरात में बड़े वारदात को अंजाम देने की फिराक में थे।
चुनाव की तारीखों के ऐलान के ठीक बाद हुए इस घटना ने सबका ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया। ऐसा ही कुछ हुआ था 2009 के लोकसभा चुनाव से पहले। उस वक्त भी गुजरात के सुरत से 32 बम मिले थे। बम की सूचना प्रशासन को मिली जिसके बाद सभी बमों को डिफ्यूज कर दिया गया था।
सवाल बस इतना है कि जब राजनीति माहौल गर्म होता है तभी ऐसा क्यों होता है? और इस बात की चिंता भी होनी चाहिए देश की जनता को कि कहीं उनकी सुरक्षा के मुद्दे पर राजनीति तो नहीं की जा रही?



No comments

Need a News Portal, with all feature... Whatsapp me @ +91-9990089080
Powered by Blogger.