ट्रम्प को फिर लगा ज़ोरदार झटका- सारी मेहनत पर पानी फिर गया




अमरीकी फ़ेडरल अपील कोर्ट ने अमरीका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प की ओर से 7 मुस्लिम देशों पर यात्रा संबंधी प्रतिबंधों के अध्यादेश को उनके निर्धारित कार्य क्षेत्र से बाहर क़रार दे दिया।

इस संबंध में अमरीकी अदालत ने फ़ैसला सुरक्षित कर लिया है किन्तु फ़ैसला सामने आने तक यात्रा संबंधी प्रतिबंध लगे रहेंगे। एसोशिएटेड प्रेस के अनुसार प्रकाशित होने वाले 77 पृष्ठों पर आधारित रूलिंग में कहा गया है कि ट्रम्प के अध्यादेश के पक्ष में कोई ठोस प्रमाण नहीं मिले कि व्यक्ति पर यात्रा संबंधी प्रतिबंध से इस देश को सुरक्षा समस्या का सामना है।
अमरीकी राज्य हवाई ने बल दिया था कि मुस्लिम देशों के नागरिकों पर यात्रा प्रतिबंध से परिवार बिछड़ जाएंगे और अमरीकी विश्वविद्यालयों में छात्रों की संख्या कम हो जाएगी।
ज्ञात रहे कि अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प के नये अध्यादेश को अमरीकी राज्य हवाई के प्रशासन ने जारी वर्ष 9 मार्च को होनोलोलो की अदालत में चैलेंज किया था।
राज्य की ओर से दायर की जाने वाली अपील में कहा गया था कि डोनल्ड ट्रम्प के यात्रा संबंधी प्रतिबंधों के अध्यादेश से राज्य की मुस्लिम आबादी, पर्यटन और विदेशी छात्रों को नुक़सान पहुंचेगा।
यात्रा संबंधी प्रतिबंधों के विरुद्ध सर्किट कोर्ट के फ़ैसले पर सुप्रिम कोर्ट ने जारी महीने के आरंभ में स्थाई रूप से रोक लगा दी थी।
ज्ञात रहे कि डोनल्ड ट्रम्प के नये अध्यादेश पर आज से अमल होना था किन्तु अदालत ने अध्यादेश पर अमल शुरु होने से एक घंटा पहले ही उसे स्थगित कर दिया।
इससे पहले जनवरी 2017 के अंतिम समाप्त में जारी किए गये डोनल्ड ट्रम्प के एक्ज़ीक्टिव आर्डर को भी वाशिंग्टन राज्य की अपील पर सैन फ्रैंसिस्को की अदालत ने स्थगित कर दिया था।
डोनल्ड ट्रम्प ने इस फ़ैसले को स्थगित करने के लिए पुनर्विचार अपील भी दायर की थी जिसे अदालत ने रद्द कर दिया था जिसके बाद अमरीकी राष्ट्रपति ने कुछ सुधार के साथ नया अध्यादेश जारी किया, बाद में अदालत ने उसको भी स्थगित कर दिया।


No comments

Need a News Portal, with all feature... Whatsapp me @ +91-9990089080
Powered by Blogger.