सदन में आज फिर गूँजेगा तीन तलाक़ का मुद्दा- काँग्रेस ने अपने साँसदों को दिया ये आदेश



नई दिल्ली: जितनी आसानी के साथ लोकसभा में तीन तलाक़ बिल पास हुआ अब राज्यसभा में उतना ही मुश्किल होता जारहा है,विपक्ष अपनी मांगों को लेकर अड़ा हुआ है,सरकार सबको नज़रअंदाज़ करके मनमाने तरीके से बिल को पास करना चाहती है इसी लिए राज्यसभा में गुरुवार को भी तीन तलाक बिल पर गरमा गर्मी बनी रही और इसी वजह से सदन को स्थगित भी कर दिया गया। केंद्र और विपक्ष के बीच आज यानि शुक्रवार को भी इस मुद्दे पर बहस के आसार बने हुए हैं, क्योंकि केंद्र राज्यसभा में अल्पमत में है और उसके पास इसे स्टैंडिंग कमेटी के पास भेजने के अलावा कोई दूसरा चारा नहीं है।
मुद्दे की गंभीरता को देखते हुए कांग्रेस ने अपने सांसदों को व्हिप जारी करते हुए राज्यसभा में मौजूद रहने के आदेश दिए हैं।
दरअसल, लोकसभा से पारित होने के बाद मुस्लिम महिला विवाह अधिकार संरक्षण विधेयक-2017 गुरुवार को राज्यसभा में पेश कर दिया गया। हालांकि, बिल पेश होते ही पूर्वानुमानों के अनुसार हंगामा शुरू हो गया। प्रमुख विपक्षी कांग्रेस सदस्यों ने बिल में शामिल कई प्रावधानों को लेकर कड़ी आपत्ति जताई। विपक्ष के अन्य सांसदों ने भी कांग्रेस के सुर में सुर मिलाया।।
संसद के बाहर रविशंकर प्रसाद ने कहा कि यह सिर्फ साढ़े तीन क्लॉज का बिल है लेकिन कांग्रेस पार्टी इसे लटकाना चाहती है। लोकसभा में हमारा बहुमत था और वहां रोक नहीं सकती थी इसलिए मजबूरी में समर्थन किया और राज्यसभा में हम अल्पमत में हैं तो वो इसे लटकाना चाहती है।  प्रसाद ने कहा- आज देश ने कांग्रेस का वो चेहरा देख लिया जो महिलाओं के विरोध में है।
इससे पहले वित्तमंत्री जेटली ने बताया कि क्यों इस बिल को स्टैंडिंग कमेटी को नहीं भेजा जा सकता, उनके अनुसार तीन तलाक को सुप्रीम कोर्ट ने असंवैधानिक घोषित कर दिया है, और कोर्ट के दो जजों ने छह महीने के लिए तीन तलाक पर रोक लगाई थी और वो अवधि 22 फरवरी को पूरी हो रही है।



No comments

Need a News Portal, with all feature... Whatsapp me @ +91-9990089080
Powered by Blogger.